शिक्षक दिवस पर निबंध – Teachers Day Essay in Hindi (2023)

शिक्षक दिवस पर निबंध (Teachers Day Essay in Hindi 2023, Essay on Teachers Day in Hindi) – Long and Short Paragraph Essay on Teacher’s Day for Students and Children

शिक्षक दिवस (Teachers Day Essay in Hindi)

शिक्षक दिवस ((Teachers Day Essay in Hindi 2023, Essay on Teachers Day in Hindi)) राष्ट्रीय त्योहार है, और यह पूरे भारत में मनाया जाता है। भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म के कारण ही हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म 5 सितंबर 1888 को हुआ था। वे एक महान व्यक्ति थे, साथ ही वे एक दार्शनिक, शिक्षाविद, मानवतावादी और धार्मिक विचारक भी थे। उनमें किताबें लिखने की महान क्षमता थे और उन्होंने धर्म और दर्शन पर कई किताबें भी लिखीं।

उन्होंने कई प्रसिद्ध विश्वविद्यालयों जैसे मैसूर, चेन्नई, कोलकाता और लंदन में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर के रूप में पढ़ाया। उन्हें वर्ष 1949 में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के अध्यक्ष के रूप में भी नियुक्त किया गया था और एक शिक्षक होने के नाते वे हमेशा शिक्षक समुदाय से प्यार करते थे।

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्ण 1962 में पूर्व राष्ट्रपति बने। उन्होंने छात्रों और दोस्तों से संपर्क किया और उनसे अनुरोध किया कि वे 5 सितंबर को उनका जन्मदिन मनाने की अनुमति दें। उन्होंने अपने जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाने के लिए सभी को आमंत्रित किया, और यह हमेशा सौभाग्य की बात होगी।

शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है (Why Teacher’s day celebrated)

शिक्षकों के बीच सम्मान और प्यार के लिए पूरे भारत में शिक्षक दिवस ((Teachers Day Essay in Hindi 2023, Essay on Teachers Day in Hindi)) मनाया जाता है। शिक्षकों का पेशा (Profession) छात्रों के लिए बहुत अच्छा है क्योंकि वे हर छात्र के लिए आदर्श हैं।

दुनिया भर में मां अपने बच्चों के लिए शिक्षक के रूप में सबसे पहले आती है। बच्चे बचपन से ही अपनी मां से बोलना सीखते हैं। हर माँ अपने बच्चों के लिए महान मूर्ति है। उसके बाद, शिक्षक हर छात्र के जीवन में उन्हें पढ़ाने के लिए आते हैं। अच्छे तरीके से सीखकर छात्रों के जीवन की महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए शिक्षक सबसे अच्छे अभिलाषा में से एक हैं।

शिक्षक ही होते हैं जो बच्चों को कल के महान नागरिक बनने के लिए तैयार करते हैं। शिक्षक ही ऐसे होते हैं जिन्हें जीवन भर याद रखा जाता है। सभी को अपने शिक्षकों का सम्मान करना चाहिए; यह जीवन के लिए आदर्श होगा। शिक्षकों की छाप या प्रभाव बहुत प्यारी और ईमानदार होती है।

शिक्षक दिवस का उत्सव (Celebration of teacher’s day)

अपने स्कूली जीवन में हम शिक्षक दिवस को और भी अधिक मस्ती के साथ मनाते हैं। उस दिन छात्र अपने शिक्षकों को ढेर सारे उपहार देते हैं। इस दिन छात्रों द्वारा अपने शिक्षकों को फूल और शुभकामनाएं प्रदान की जाती हैं। कई छात्र अपने शिक्षकों को बड़े उपहार देते हैं।

इस दिन भी, छात्र अपनी विभिन्न प्रकार की गतिविधियों जैसे नृत्य, गायन द्वारा अपने शिक्षकों को बहुत खुश करने का प्रयास करते हैं। यह सब देखकर शिक्षक अपने छात्रों पर बहुत गर्व महसूस करते हैं।

कई छात्र इस दिन शिक्षकों के लिए भाषण देते हैं। वे हमारे जीवन में शिक्षकों के महत्व पर भाषण देते हैं। वे सभी अपने-अपने स्वभाव के आधार पर अपने शिक्षकों को कुछ पुरस्कार प्रदान करते हैं। वे पुरस्कार देकर सही शिक्षकों को प्रोत्साहित करते हैं।

आखिर स्कूल के प्रिंसिपल भी छात्रों को उनकी पढ़ाई और भविष्य के लिए मदद करने के लिए भाषण देते हैं। वह छात्रों को अधिक आशीर्वाद और शुभकामनाएं भी देता है। उनका भाषण छात्र जीवन के लिए और अधिक प्रोत्साहित हो जाता है।

सभी कथन और गतिविधियाँ समाप्त हो जाने के बाद फिर नाश्ते का समय शुरू हो होता है। छात्र शिक्षकों को कुछ नाश्ते और चाय की पेशकश करते हैं इस प्रकार इसे शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है।

हमारे जीवन में शिक्षकों का महत्व (Importance of the teachers in our life)

अन्य सभी पेशे में शिक्षक का काम बहुत अच्छा होता है, और कोई भी उनके जैसा नहीं बन सकता। इसे हमेशा छात्रों द्वारा शिक्षकों के बीच हाइलाइट किया जाना चाहिए। हमारे जीवन में शिक्षकों की भूमिका महत्वपूर्ण है। समाज में उनका पेशा उच्च स्तर पर आता है।

शिक्षक समाज पर जबरदस्त महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं। समुदाय पूरी तरह से शिक्षकों पर निर्भर है क्योंकि समाज को बनाना और नष्ट करना उसके हाथ में है। इसलिए शिक्षकों के लिए यह आवश्यक है कि समुदाय का भविष्य क्या होगा।

छात्रों के साथ शिक्षकों का रिश्ता पहले जैसा दैवीय नहीं है, कई बदलाव हुए हैं; एक शिक्षक अब एक निस्वार्थ गुरु नहीं है। शिक्षक कर्मचारी हैं, और उन्हें भी अपने काम का भुगतान किसी कार्यालय या कारखाने में काम करने वाले किसी अन्य कर्मचारी की तरह ही मिल रहा है।

आधुनिक समय में, महत्वपूर्ण शिक्षकों का अपने विशेष छात्रों के पक्षपात से पतन हो रहा है। कुछ छात्र शिक्षकों को अपना पसंदीदा बना लेते हैं।

सजा के समय के कारण, छात्र सोचते हैं कि शिक्षक अच्छे नहीं हैं, लेकिन यह बात गलत है। उन्होंने छात्रों को दंडित किया, और उन्हें दंडित करने का अर्थ भी था। लेकिन अब सब कुछ उल्टा हो गया है, समाज से शिक्षकों का सम्मान करने की उम्मीद करना मुश्किल है।

वर्तमान में, शिक्षकों ने समस्याओं को दूर किया है और अपनी गरिमा को बनाए रखा है। लेकिन हमें छात्रों के रूप में समझना चाहिए कि हमारे समाज में शिक्षकों का क्या महत्व है। प्रत्येक छात्र को शिक्षकों का सम्मान करना चाहिए।

अन्य पढ़े:

  1. डॉक्टर्स डे पर निबंध
  2. विज्ञान के चमत्कार पर निबंध
  3. टेक्नोलॉजी पर निबंध

निष्कर्ष (Conclusion)

शिक्षक दिवस पूरे भारत में मनाया जाता है, और यह एक अधिक महत्वपूर्ण दिन है जो समाज में शिक्षक के महत्व का जश्न मनाता है। छात्रों को शिक्षकों के लिए कई गतिविधियाँ करनी चाहिए और शिक्षकों के लिए एक बहुत ही खास दिन बनाना चाहिए। शिक्षकों, इस दिन छात्रों द्वारा सभी उपलब्धियों को दिखाया जाता है।

यदि आप शिक्षक दिवस के संबंध में कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं, तो आप अपना सवाल नीचे कमेंट में पूछ सकते हैं।

Teachers Day FAQ

Q1: 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में क्यों मनाया जाता है?

Ans: राधाकृष्णन का मानना ​​था कि “शिक्षकों को देश में सबसे अच्छा दिमाग होना चाहिए”। 1962 से उनका जन्मदिन भारत में हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। वह भारत के एकमात्र राष्ट्रपति हैं जो अपने खराब स्वास्थ्य के कारण दिल्ली गणतंत्र दिवस परेड में शामिल नहीं हो सके।

Q2: शिक्षक दिवस क्या है और इसे क्यों मनाया जाता है?

Ans: भारत में हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। यह स्मरणोत्सव हमारे देश के दूसरे राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती का प्रतीक है। डॉ राधाकृष्णन ने भारत की शिक्षा को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और कई लोगों को स्कूलों में रहने और शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रेरित किया।

Q3: शिक्षक दिवस की वास्तविक तिथि क्या है?

Ans: भारत के दूसरे राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जन्म तिथि 5 सितंबर 1888 को 1962 से शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Leave a Comment