Vishwakarma Puja Mantra (Anjali, Vidhi, Havan, Puja Aarti)

Vishwakarma Puja 2023 Vidhi, Mantra And Aarti, Vishwakarma Puja Mantra (Anjali, Havan, Puja Aarti): विश्वकर्मा पूजा 17 सितंबर 2023 दिन शुक्रवार को है। इस दिन कई दुकानें और दफ्तर बंद रहते हैं। इस पूजा को करने के पीछे मान्यता ये है कि इससे व्यक्ति की शिल्पकला का विकास होता है और व्यापार में तरक्की मिलती है। हिन्दू धर्म में भगवान विश्वकर्मा को सृष्टि का निर्माणकर्ता और शिल्पकार माना जाता है। जानिए इनकी पूजा विधि।

Vishwakarma Puja Vidhi

विश्वकर्मा पूजा Vishwakarma Puja Mantra (Anjali, Havan, Puja Aarti) के दिन कारखाने, दुकान आदि के स्वामी को अपनी पत्नी के साथ शुभ मुहूर्त में पूजा स्थल पर बैठना चाहिए। इसके बाद भगवान विश्वकर्मा की मूर्ति को एक चौकी पर स्थापित करें। इसके बाद जिन मशीनों, औजारों की आप पूजा करना चाहते हैं, उन पर हल्दी अक्षत और रोली लगाएं। भगवान विश्वकर्मा को फूल, चंदन, अक्षत, धूप, रोली, दही, सुपारी, रक्षा सूत्र, फल और मिठाई अर्पित करें। आप जिस यंत्र की पूजा करना चाहते हैं, उस पर भी इन सभी चीजों को चढ़ा दें। साथ ही पूजा में जल से भरा कलश भी शामिल करें और उस पर हल्दी, चावल और रक्षासूत्र चढ़ाएं. अंत में भगवान विश्वकर्मा की आरती करें और उन्हें प्रसाद चढ़ाकर सभी में बांटें। पूजा के अगले दिन भगवान विश्वकर्मा की मूर्ति का भी विसर्जन करना चाहिए।

Vishwakarma Puja Aarti

ॐ जय श्री विश्वकर्मा, प्रभु जय श्री विश्वकर्मा।
सकल सृष्टि के कर्ता, रक्षक श्रुति धर्मा॥ ॐ जय…

आदि सृष्टि में विधि को श्रुति उपदेश दिया।
जीव मात्रा का जग में, ज्ञान विकास किया॥ ॐ जय…

ऋषि अंगिरा ने तप से, शांति नहीं पाई।
ध्यान किया जब प्रभु का, सकल सिद्धि आई॥ ॐ जय…

रोग ग्रस्त राजा ने, जब आश्रय लीना।
संकट मोचन बनकर, दूर दुःख कीना॥ ॐ जय…

जब रथकार दंपति, तुम्हरी टेर करी।
सुनकर दीन प्रार्थना, विपत हरी सगरी॥ ॐ जय…

एकानन चतुरानन, पंचानन राजे।
त्रिभुज चतुर्भुज दशभुज, सकल रूप सजे॥ ॐ जय…

ध्यान धरे जब पद का, सकल सिद्धि आवे।
मन दुविधा मिट जावे, अटल शक्ति पावे॥ ॐ जय…

“श्री विश्वकर्मा जी” की आरती, जो कोई नर गावे।
कहत गजानंद स्वामी, सुख संपति पावे॥ ॐ जय…

Vishwakarma Puja Mantra (Vishwakarma Puja Havan Mantra)

Vishwakarma Puja 2023 Vidhi, Mantra And Aarti, Vishwakarma Puja Mantra (Anjali, Havan, Puja Aarti)

Vishwakarma Puja Mantra
Vishwakarma Puja Mantra

मंत्र: ओम आधार शक्तपे नम:, ओम कूमयि नम:, ओम अनन्तम नम:, पृथिव्यै नम:।

Vishwakarma Aarti

हम सब उतारे आरती तुम्हारी हे विश्वकर्मा, हे विश्वकर्मा।

युग–युग से हम हैं तेरे पुजारी, हे विश्वकर्मा…।।

मूढ़ अज्ञानी नादान हम हैं, पूजा विधि से अनजान हम हैं।

भक्ति का चाहते वरदान हम हैं, हे विश्वकर्मा…।।

निर्बल हैं तुझसे बल मांगते, करुणा का प्यास से जल मांगते हैं।

श्रद्धा का प्रभु जी फल मांगते हैं, हे विश्वकर्मा…।।

चरणों से हमको लगाए ही रखना, छाया में अपने छुपाए ही रखना।

धर्म का योगी बनाए ही रखना, हे विश्वकर्मा…।।

सृष्टि में तेरा है राज बाबा, भक्तों की रखना तुम लाज बाबा।

धरना किसी का न मोहताज बाबा, हे विश्वकर्मा…।।

धन, वैभव, सुख–शान्ति देना, भय, जन–जंजाल से मुक्ति देना।

संकट से लड़ने की शक्ति देना, हे विश्वकर्मा…।।

तुम विश्वपालक, तुम विश्वकर्ता, तुम विश्वव्यापक, तुम कष्टहर्ता।

तुम ज्ञानदानी भण्डार भर्ता, हे विश्वकर्मा…।।

भगवान विश्वकर्मा की जय। भगवान विश्वकर्मा की जय।

Leave a Comment